LATEST:


Monday, September 27, 2010

मोहल्ले का नायक


गर्म धूप की सेंक से
पक रही हैं लड़कियां
मोहल्ले की लड़कियां
फरवरी के महीने में
बरामदे की कुर्सियों पर
छत पर बिछी चटाई पर
खुले लॉन में
ऊन के फंदों में
कस रही हैं लड़कियां
बैडमिंटन के कोर्ट में
शटल के पंखों से
उड़ रही हैं लड़कियां

लड़कों का क्रिकेट बॉल
उड़ा ला रहे हैं
लड़कियों की बातें
नयी पकी खुशबू की सौगातें
नहीं कर पा रहे हैं यही काम
ऊपर उड़ रहे कई पतंग
प्रयास के बावजूद

सबको पता है कि
शाम से पहले
तीन-साढ़े तीन बजे
इस वासंती मुहूर्त का नायक
यहां नहीं है
वहां लड़कियों की बातों से भी
उसकी टोह मुश्किल है
बची कविता
तो वह भला
यहां कैसे हो सकता है
वैसे यह कहना भी फिजूल है
यह जानने के बाद कि वह
धड़कनों का चित्रकार है
और इस साल वसंत के पास
उसी की कूची से धुला
आईडेंटीटी कार्ड है

No comments:

Post a Comment